Saturday, February 27, 2010

स्पर्श (Sparsh)

कुरान हाथों में लेके नाबीना एक नमाज़ी
लबों पे रखता था
दोनों आँखों से चूमता था
झुकाके पेशानी यूँ अक़ीदत से छू रहा था
जो आयतें पढ़ नहीं सका
उन के लम्स महसूस कर रहा हो

मैं हैराँ-हैराँ गुज़र गया था
मैं हैराँ हैराँ ठहर गया हूँ

तुम्हारे हाथों को चूम कर
छू के अपनी आँखों से आज मैं ने
जो आयतें पढ़ नहीं सका
उन के लम्स महसूस कर लिये हैं
- Gulzar

3 comments:

RUMI THE RAMBLER said...

Nice to visit. Hoping for something more!

RUMI THE RAMBLER said...

Well done brother!

Yayaver said...

Thanks for appreciation. Will try to put more poems around the world that I like...

Popular Posts

Total Pageviews