Saturday, May 15, 2010

आंखों में पानी देख
कहीं तुम्हे
रोने का भ्रम ना हो जाए
तुम नहीं जानते
कि
रोते हुए , आंसू
बाहर नहीं
अन्दर गिरते हैं

- गुरमीत बराङ

No comments:

Popular Posts

Total Pageviews