Tuesday, June 8, 2010

Nisar Main Teri Galiyon Ke

निसार मैं तेरी गलियों के अए वतन, कि जहाँ
चली है रस्म कि कोई न सर उठा के चले
जो कोई चाहनेवाला तवाफ़ को निकले
नज़र चुरा के चले, जिस्म-ओ-जाँ बचा के चले

है अहल-ए-दिल के लिये अब ये नज़्म-ए-बस्त-ओ-कुशाद
कि संग-ओ-ख़िश्त मुक़य्यद हैं और सग आज़ाद

बहोत हैं ज़ुल्म के दस्त-ए-बहाना-जू के लिये
जो चंद अहल-ए-जुनूँ तेरे नाम लेवा हैं
बने हैं अहल-ए-हवस मुद्दई भी, मुंसिफ़ भी
किसे वकील करें, किस से मुंसिफ़ी चाहें

मगर गुज़रनेवालों के दिन गुज़रते हैं
तेरे फ़िराक़ में यूँ सुबह-ओ-शाम करते हैं

बुझा जो रौज़न-ए-ज़िंदाँ तो दिल ये समझा है
कि तेरी मांग सितारों से भर गई होगी
चमक उठे हैं सलासिल तो हमने जाना है
कि अब सहर तेरे रुख़ पर बिखर गई होगी

ग़रज़ तसव्वुर-ए-शाम-ओ-सहर में जीते हैं
गिरफ़्त-ए-साया-ए-दिवार-ओ-दर में जीते हैं

यूँ ही हमेशा उलझती रही है ज़ुल्म से ख़ल्क़
न उनकी रस्म नई है, न अपनी रीत नई
यूँ ही हमेशा खिलाये हैं हमने आग में फूल
न उनकी हार नई है न अपनी जीत नई

इसी सबब से फ़लक का गिला नहीं करते
तेरे फ़िराक़ में हम दिल बुरा नहीं करते

ग़र आज तुझसे जुदा हैं तो कल बहम होंगे
ये रात भर की जुदाई तो कोई बात नहीं
ग़र आज औज पे है ताल-ए-रक़ीब तो क्या
ये चार दिन की ख़ुदाई तो कोई बात नहीं

जो तुझसे अह्द-ए-वफ़ा उस्तवार रखते हैं
इलाज-ए-गर्दिश-ए-लैल-ओ-निहार रखते हैं

---फ़ैज़ अहमद फ़ैज़
---------------------------------
Video of Potery Reading and English Translation (Source)

My salutations to thy sacred streets, O beloved nation!
Where a tradition has been invented- that none shall walk with his head held high
If at all one takes a walk, a pilgrimage
One must walk, eyes lowered, the body crouched in fear

The heart in a tumultuous wrench at the sight
Of stones and bricks locked away and mongrels breathing free

In this tyranny that has many an excuse to perpetuate itself
Those crazy few that have nothing but thy name on their lips
Facing those power crazed that both prosecute and judge, wonder
To whom does one turn for defence, from whom does one expect justice?

But those whose fate it is to live through these times
Spend their days in thy mournful memories

When hope begins to dim, my heart has often conjured
Your forehead sprinkled with stars
And when my chains have glittered
I have imagined that dawn must have burst upon thy face

Thus one lives in the memories of thy dawns and dusks
Imprisoned in the shadows of the high prison walls

Thus always has the world grappled with tyranny
Neither their rituals nor our rebellion is new
Thus have we always grown flowers in fire
Neither their defeat, nor our final victory, is new!

Thus we do not blame the heavens
Nor let bitterness seed in our hearts

We are separated today, but one day shall be re- united
This separation that will not last beyond tonight, bears lightly on us
Today the power of our exalted rivals may touch the zenith
But these four days of omniscience too shall pass

Those that love thee keep, beside them
The cure of the pains of a million heart- breaks

No comments:

Popular Posts

Total Pageviews