Sunday, November 25, 2012

बर्बरता की ढाल ठाकरे

बाल ठाकरे ! बाल ठाकरे!!

कैसे फासिस्टी प्रभुओं की-

गला रहा है दाल ठाकरे !


अबे सम्हल जा, वो आ पहुंचा बाल ठाकरे!

सबने हां की, कौन ना करे!

छिप जा, मत तू उधर ताक रे!


शिवसेना की वर्दी डाटे जमा रहा लय-ताल ठाकरे!

सभी डर गये, बजा रहा है गाल ठाकरे!

अपने भक्तों को कर देगा अब तो मालामाल ठाकरे!


गूंज रही सह्याद्रि घाटियाँ, मचा रहा भूचाल ठाकरे!

मन ही मन कहते राजा जी, जिए भला सौ साल ठाकरे!


चुप है कवि, डरता है शायद खींच नहीं ले खाल ठाकरे!

कौन नहीं फंसता है, देखें, बिछा चुका है जाल ठाकरे!


बाल ठाकरे ! बाल ठाकरे ! बाल ठाकरे ! बाल ठाकरे!


बर्बरता की ढाल ठाकरे !

प्रजातंत्र का काल ठाकरे !


धन पिशाच के इंगित पाकर ऊंचा करता भाल ठाकरे !


चला पूछने मुसोलिनी से अपने दिल का हाल ठाकरे !

बाल ठाकरे ! बाल ठाकरे ! बाल ठाकरे ! बाल ठाकरे!


--- नागार्जुन(जून १९७०)

No comments:

Popular Posts

Total Pageviews