Sunday, February 8, 2015

खाली पड़ा था दिल

खाली पड़ा था दिल का मकान आप के बग़ैर
बेरंग सा था सारा जहां आपके बग़ैर

फूलों में चांदनी में धनक में घटाओं में
पहले ये दिलकशी थी कहाँ आपके बग़ैर

साहिल को इंतज़ार है मुद्दत से आपका
रुक सी गयी है मौज-ए-रवां आपके बग़ैर

हर सिम्त बेरुख़ी की है चादर तनी हुई
किस पर करें वफ़ा का गुमां आपके बग़ैर

ख़ामोशियों को जैसे ज़ुबां मिल गयी ‘क़तील’
महफ़िल में ज़िन्दगी थी कहाँ आपके बग़ैर

---क़तील शिफ़ाई

No comments:

Popular Posts

Total Pageviews