November 14, 2011

Mind has no color

Mind has no color,
Is neither long nor short,
Doesn't appear or disappear;
It is free from both purity and impurity;
It was never born and can never die;
It is utterly serene.
This is the form of our
Original mind,
Which is also our original body.

- Hui-hai (8th cent)

November 12, 2011

No man is an island

No man is an island,
Entire of itself.
Each is a piece of the continent,
A part of the main.
If a clod be washed away by the sea,
Europe is the less.
As well as if a promontory were.
As well as if a manor of thine own
Or of thine friend's were.
Each man's death diminishes me,
For I am involved in mankind.
Therefore, send not to know
For whom the bell tolls,
It tolls for thee.

---John Donne

November 11, 2011

Advice to Women

Keep cats
if you want to learn to cope with
the otherness of lovers.
Otherness is not always neglect --
Cats return to their litter trays
when they need to.
Don't cuss out of the window
at their enemies.
That stare of perpetual surprise
in those great green eyes
will teach you
to die alone.

---Eunice deSouza

November 1, 2011

ज़िन्दगी ना मिलेगी दोबारा.

जब जब दर्द का बादल छाया
जब गम का साया लैहराया
जब आँसू पलकों तक आया
जब ये तन्हा दिल घबराया
हमने दिल को ये समझाया
दिल आखिर तू क्यों रोता है
दुनिया मे यूँ ही होता है
ये जो गहरे सऩ्नाटे हैं
वक़्त ने सबको ही बाँटे हैं
थोड़ा गम है सबका किस्सा
थोड़ी धूप है सबका हिस्सा
आँख तेरी बेकार ही नम हैं
हर पल एक नय़ा मौसम है
क्यों तु ऐसे पल खोता है
दिल आखिर तू क्यों रोता है....


ऐक बात होटों तक है जो आइ नहीं
बस आँखों से है झाँकती
तुमसे कभी, मुझसे कभी
कुछ लव्ज़ हैं वो माँगती
जिनको पहन के होटों तक आ जाए वो
आवाज़ की बाहों मे बाहें डाले इठलाए वो
लेकिन जो ये एक बात है
ऐहसास ही ऐहसास है
खुशबू सी है जैसे हवा में तैरती
खुशबू जो बेआवाज़ है
जिसका पता तुमको भी है
जिसकी खबर मुझको भी है
दुनिया से भी छुपता नहीं
ये जाने कैसा राज़ है....


पिघले नीलम सा बेहता हुआ ये समा
नीली नीली सी खामोशियाँ
ना कहीं है ज़मीन
ना कहीं है आसमां
सरसराती हुई तनहाइयां,
पत्तियां कह रही हैं की बस ऐक तुम हो यहाँ
सिर्फ मैं हूँ मेरी साँसे हैं और मेरी धड़कनें
ऐसी गहराइयाँ
ऐसी तनहाइयां
और मैं सिर्फ मैं
अपने होने पे मुझको यकीन आ गया...



दिलों में तुम अपनी बेताबियाँ लेके चल रहे हो
तो ज़िन्दा हो तुम
नज़र में ख्वाबों की बिजलियाँ लेके चल रहे हो
तो ज़िन्दा हो तुम

हवा के झोंकों के जैसे
आज़ाद रहना सीखो
तुम एक दरिया के जैसे
लहरों में बहना सीखो
हर एक लमहे से मिलो
खोले अपनी बाँहें
हर एक पल एक नया समा
देखे ये निगांहे

जो अपनी आँखों मे हैरानियाँ लेके चल रहे हो
तो ज़िन्दा हो तुम
दिलों में तुम अपनी बेताबियाँ लेके चल रहे हो
तो ज़िन्दा हो तुम....

- जावेद अख़्तर

Popular Posts

Total Pageviews