August 14, 2015

मैं सोच रहा,

मैं सोच रहा, सिर पर अपार
दिन, मास, वर्ष का धरे भार
पल, प्रतिपल का अंबार लगा
आखिर पाया तो क्या पाया?
जब तान छिड़ी, मैं बोल उठा
जब थाप पड़ी, पग डोल उठा
औरों के स्वर में स्वर भर कर
अब तक गाया तो क्या गाया?
सब लुटा विश्व को रंक हुआ
रीता तब मेरा अंक हुआ
दाता से फिर याचक बनकर
कण-कण पाया तो क्या पाया?
जिस ओर उठी अंगुली जग की
उस ओर मुड़ी गति भी पग की
जग के अंचल से बंधा हुआ
खिंचता आया तो क्या आया?
जो वर्तमान ने उगल दिया
उसको भविष्य ने निगल लिया
है ज्ञान, सत्य ही श्रेष्ठ किंतु
जूठन खाया तो क्या खाया?

August 4, 2015

The Swallow

Oh, Swallow
As you depart our spring
slow down.
In the wood burner's exhaust pipe
as the firewood came inside,
you forgot your echo.

Oh, Swallow,
slow down.
With the feather in the
window, Swallow,

we adorned
the martyr's picture

and death flew out of the picture.

Slow down, Swallow.
The nest belongs
to whoever builds it.

---Hala Mohammad

Popular Posts

Total Pageviews