Wednesday, May 27, 2009

A paragraph from Vaani

वे कहते,
मैं भाव नही, केवल प्रभाव हूँ।
सूझ नही, केवल सूझाव हूँ
सच यह!
मैं केवल स्वाभाव हूँ।

---Written by Sumitranand Pant in 'Vaani'.

2 comments:

Varun said...

"सूझ नही, केवल सुझाव हूँ।"

पंत जी को मैंने बहुत नहीं पढा...या कहूँ कि सिर्फ स्कूल के कोर्स में जितना मिला, बस उतना ही पढा है. पर अचानक से अभी लगा कि जल्दी ही पढना चाहिए.

Yayaver said...

Varun Sir,Spelling mistake corrected.Haan Pantji prakrati ke kavi se jyaade hain, yehi yahan abhi dikhaunga. abhi aur bhi kavitaen chun chun ke dalunga..wait and watch from july.

Popular Posts

Total Pageviews