Friday, February 11, 2011

A poem by Noon Meem Rashid

ज़िन्दगी से डरते हो?
ज़िन्दगी तो तुम भी हो ,
ज़िन्दगी तो हम भी हैं

आदमी से डरते हो?
आदमी तो तुम भी हो,
आदमी तो हम भी हैं

आदमी ज़ुबां भी है , आदमी बयान भी है
हर्फ़ और मानी के रिश्ता हाय आहन से
आदमी है वाबस्ता
आदमी के दामन से ज़िन्दगी है वाबस्ता

इस से तुम ... नहीं डरते हो

अनकही से डरते हो
जो अभी आई नहीं उस घढ़ी से डरते हो
उस घढ़ी के आने की आगाही से डरते हो

पहले भी तो गुज़रे हैं
दौर ना-रसाई के , बे-रिया-खुदाई के
फिर भी ये समझते हो
हेच आर्ज़ूमंदी
ये शब् ज़ुबांबंदी ,
है रहे खुदाबंदी
तुम यही समझते हो

तुम मगर ये क्या जानो
लब अगर नहीं हिलते ... हाथ जाग उठते हैं
हाथ जाग उठते हैं
राह का निशाँ बन कर
नूर की ज़ुबां बन कर
हाथ बोल उठते हैं
सुबह की अज़ान बन कर

रौशनी से डरते हो
रौशनी तो तुम भी हो , रोशनी तो हम भी हैं
रौशनी से डरते हो

शहर के फासिलों पर
देव का जो साया था , पाक हो गया आखिर
अज्दहाम-ए-अफसान से फर्द की नवा आई
ज़ात की सदा आई

राह-ए-शौक़ में जैसे राह रवि खूँ लपके
इक नया जुनूँ लपके
आदमी छलक उठे
आदमी हँसे देखो ,
शहर फिर बसे देखो

तुम अभी से डरते हो
हाँ अभी तो तुम भी हो , हाँ अभी तो हम भी हैं
तुम अभी से डरते हो

English Translation

And you are afraid of life?
But, you too are life
We too are life

And you are afraid of humanity?
But, you too are human
We too are human

Man is word, and
Man is meaning
To the iron bond
Uniting word and meaning
Man is connected
Life itself is tied to his sleeves

Of this, being unaware, you are not afraid.

Afraid of the unsaid
Afraid of the moment that has not yet arrived
Afraid of even the awareness of the coming of that moment

We have seen the consequences
Before
Of remaining aloof
Of a seemingly guileless divinity
And yet you believe
That to desire is worthless
That this night of silenced tongues
Is the noble path to salvation

How will you know though
That if those lips don’t move
One's arms begin to stir
One's hands begin to call
As the shining lights in the night
As the voice of heavens
Like the voice from the temple at dawn

But you are afraid of Light?
Remember, you too are a light
We too are a light

What was earlier only a shadow of the prophets
It finally became holy
A new light, a new wind, a new message was in the air

As in the journey of love
The traveler’s blood soars
A new passion leaps
Man is consumed with it
And he laughs, look!
The city is reborn in love

You are alive, and so are we.
Still you are afraid?

---Noon Meem Rashid

2 comments:

नीरज बसलियाल said...

बहुत खूब ... अनुवाद क्या आपने किया है ?

Yayaver said...

No bhai, sab internet se mila material hai. I am only compiler. Thanks atleast for looking into english verse also.

Popular Posts

Total Pageviews