Monday, April 11, 2011

बोल कि लब आज़ाद हैं तेरे

बोल कि लब आजाद हैं तेरे
बोल, जबां अब तक तेरी है
तेरा सुतवां* जिस्म हे तेरा
बोल कि जां अब तक तेरी है.

देख कि आहनगर** की दुकां में
तुन्द** हैं शोले, सुर्ख है आहन^
खुलने लगे कुफलों के दहाने^^
फैला हर जंजीर का दामन.

बोल, ये थोड़ा वक्त बहुत है
जिस्मों जबां की मौत से पहले
बोल कि सच जिंदा है अब तक
बोल कि जो कहना है कह ले.

* तना हुआ,**लोहार, *** तेज, ^लोहा, ^^तालों के मुंह

---

शबाना आज़मी एक कुशल अभिनेत्री के साथ साथ एक अच्छी गायिका हैं. शबाना आज़मी की आवाज़ में फ़ैज़ की ये मशहूर नज़्म जो हमेशा से लोगों की आवाज़ को हुक्मरानों तक पहुंचाने के लिए प्रेरित करती रही है।:

2 comments:

sarahinseoul said...

Hi Himanshu,

I was looking for Adminama by Nazir Akbar Abadi and it brought me to your blog....Your blog looks incredible and finally I found some of the greatest works of all time in poetry.

I can not read Hindi but you made it easy by linking in some audios...

Keep up the good work....and all the best!

Yayaver said...

Welcome Sarah to my blog. I am just a collector and admirer of beautiful poems. Hence, just compiling all of the favorites at one place. And I am really happy that any other person/stranger also find my blog inspiring :)

And if you want any translated work of any writer, then just mail me. I am good in google search :P

Thanks for the wishes and keep coming.

Popular Posts

Total Pageviews