Friday, July 1, 2011

रोने से और इशक़ में बेबाक हो गए

रोने से और इशक़ में बेबाक हो गए
धोये गए हम ऐसे हे बस पाक हो गए

कहता है कौन नाला-ए-बुलबुल को बेअसर
पर्दे में गुल के लाख जिगर चाक हो गए

पूछे है क्या वजूदो-अदम अहले-शौक का
आप अपनी आग से खसो-ख़ाशाक हो गए

करने गए थे उससे तगाफुल का हम गिला
की एक ही निगाह की बस ख़ाक हो गए

इस रंग से उठायी कल उसने 'असद' की लाश
दुश्मन भी जिसको देख के गमनाक हो गए

---'असद'


Glossary:
नाला-ए-बुलबुल : sound of bulbul
चाक : break
वजूदो-अदम अहले-शौक : why you ask about the life and death of a lover
खसो-ख़ाशाक : trash
तगाफुल : negligence

No comments:

Popular Posts

Total Pageviews