27.8.11

नीड का निर्माण

नीड़ का निर्माण फिर-फिर,
नेह का आह्णान फिर-फिर!

वह उठी आँधी कि नभ में
छा गया सहसा अँधेरा,
धूलि धूसर बादलों ने
भूमि को इस भाँति घेरा,

रात-सा दिन हो गया, फिर
रात आ‌ई और काली,
लग रहा था अब न होगा
इस निशा का फिर सवेरा,

रात के उत्पात-भय से
भीत जन-जन, भीत कण-कण
किंतु प्राची से उषा की
मोहिनी मुस्कान फिर-फिर!

नीड़ का निर्माण फिर-फिर,
नेह का आह्णान फिर-फिर!

वह चले झोंके कि काँपे
भीम कायावान भूधर,
जड़ समेत उखड़-पुखड़कर
गिर पड़े, टूटे विटप वर,

हाय, तिनकों से विनिर्मित
घोंसलो पर क्या न बीती,
डगमगा‌ए जबकि कंकड़,
ईंट, पत्थर के महल-घर;

बोल आशा के विहंगम,
किस जगह पर तू छिपा था,
जो गगन पर चढ़ उठाता
गर्व से निज तान फिर-फिर!

नीड़ का निर्माण फिर-फिर,
नेह का आह्णान फिर-फिर!

क्रुद्ध नभ के वज्र दंतों
में उषा है मुसकराती,
घोर गर्जनमय गगन के
कंठ में खग पंक्ति गाती;

एक चिड़िया चोंच में तिनका
लि‌ए जो जा रही है,
वह सहज में ही पवन
उंचास को नीचा दिखाती!

नाश के दुख से कभी
दबता नहीं निर्माण का सुख
प्रलय की निस्तब्धता से
सृष्टि का नव गान फिर-फिर!

नीड़ का निर्माण फिर-फिर,
नेह का आह्णान फिर-फिर!

--- हरिवंशराय बच्चन

24.8.11

Chand Sher - 1

1)
न मौजें, न तूफां, न माझी, न साहिल
मगर मन की नैया बही जा रही है
चला जा रहा है वफ़ा का मुसाफ़िर
जिधर भी तमन्ना लिये जा रही है |

-दिल शाहजहांपुरी

2)
रख कदम फूंक-फूंक कर नादान
ज़र्रे-ज़र्रे में जान है प्यारे
मीर आमदन भी कोई मरता है
जान है तो जहान है प्यारे

(आमदन = ज़िद करके, जान-बूझ कर)

- मीर तक़ी मीर

3)
लाए उस बुत को इल्तिज़ा करके, कुफ़्र टूटा ख़ुदा ख़ुदा करके|

- पंडित दयाशंकर नसीम

4)
हमारे बाद अब महफ़िल में अफ़साने बयां होंगे
बहारें हमको ढूँढेंगी ना जाने हम कहाँ होंगे
ना हम होंगे ना तुम होगे और ना ये दिल होगा फिर भी
हज़ारों मंज़िले होंगी हज़ारों कारँवा होंगे|

- मजरूह सुल्तानपुरी

5)
अब तो घबरा के ये कहते हैं कि मर जाएंगे
मर के भी अगर चैन ना पाया तो किधर जाएंगे
हम नहीं वो जो करें ख़ून का दावा तुझ पर
बल्कि पूछेगा ख़ुदा भी तो मुकर जाएंगे
“ज़ौक” जो मदरसे के बिगडे हुए हैं मुल्लाह
उनको मयख़ाने में ले आओ संवर जाएंगे|

- इब्राहिम “ज़ौक़”

6)
इस से पहले कि बेवफ़ा हो जाएँ
क्यूँ न ए दोस्त हम जुदा हो जाएँ
तू भी हीरे से बन गया पत्थर
हम भी कल जाने क्या से क्या हो जाएँ
बंदगी हमने छोड़ दी है फ़राज़
क्या करें लोग जब ख़ुदा हो जाएँ|

- अहमद फ़राज़

15.8.11

जोश मलीहाबादी की एक नज़्म – आज के नाम

लोग हमसे रोज कहते हैं ये आदत छोडिये

ये तिजारत है खिलाफे-आदमियत छोडिये

इससे बदतर लत नहीं है कोई, ये लत छोडिये

रोज अखबारों में छपता है की रिश्वत छोडिये

भूल कर भी जो कोई लेता है रिश्वत, चोर है

आज कौमी पागलों में रात-दिन ये शोर है.

किसको समझाएं इसे खो दें तो फिर पाएंगे क्या?

हम अगर रिश्वत नहीं लेंगे तो फिर खायेंगे क्या?

क़ैद भी कर दें तो हमें रह पर लायेंगे क्या?

ये जूनूने -इश्क के अंदाज़ छूट जायेंगे क्या?

मुल्क भर को क़ैद कर दे किसके बस की बात है

खैर से सब हैं, कोई दो-चार-दस की बात है?

ये हवस, ये चोरबाजारी, ये महंगे, ये भाव

राइ की कीमत हो जब परबत तो क्यों न आये ताव

अपनी तनख्वाहों के नाले में पानी है आध पाव

और लाखों टन की भरी अपने जीवन की है नाव

जब तलक रिश्वत न लें हम, दाल गल सकती नहीं

नाव तनख्वाहों के पानी में तो चल सकती नहीं

ये है मिलवाला, वो बनिया, औ ये साहूकार है

ये है दूकानदार, वो हैं वैद, ये अत्तार है

वोह अगर है ठग, तो ये डाकू है, वो बटमार है

आज हर गर्दन में काली जीत का इक हार है

हैफ़! मुल्क-ओ-कॉम की खिदमतगुजारी के लिए

रह गए हैं इ हमीं ईमानदारी के लिए?

भूक के कानून में ईमानदारी जुर्म है

और बे-ईमानियों पर शर्मसारी जुर्म है

डाकुओं के दौर में परहेजगारी जुर्म है

जब हुकूमत खाम हो तो पुख्ताकारी जुर्म है

लोग अटकाते हैं क्यों रोड़े हमारे काम में

जिसको देखो, खैर से नंगा है वो हमाम में

………..

तोंद वालों की तो आईनादारी, वाहवाह

और हम भूकों के सर पर चांदमारी, वाहवाह

उनकी खातिर सुबह होते ही नहरी, वाहवाह

और हम चाटा करें ईमानदारी, वाहवाह

सेठजी तो खूब मोटर में हवा खाते फिरें

और हम सब जूतियाँ गलियों में चटकाते फिरें

………

आप हैं फज़ल-ए-खुदा-ए-पाक से कुर्सिनाशीं

इंतज़ाम-ए-सल्तनत है आपके ज़ेरे-नगीं

आसमां है आपका खादिम तो लौंडी है ज़मीं

आप खुद रिश्वर के ज़िम्मेदार हैं, फिदवी नहीं

बख्शते हैं आप दरिया, कश्तियाँ खेते हैं हम

आप देते हैं मवाके, रिश्वत लेते हैं हम

ठीक तो करते नहीं बुनियाद-ए-नाहमवार को

दे रहे हैं गालियाँ गिरती हुई दीवार को

…….
---जोश मलीहाबादी.
जोश मलीहाबादी की नज़्म ‘रिश्वत’ के कुछ टुकड़े, इस स्वाधीनता दिवस के नाम.
Taken from Kafila posted by Aditya Nigam;

10.8.11

Your Love

My dear with the deep eyes, Your love
is extreme,
mystical
sacred.
Like birth and death, your love
is unrepeatable.

---Nizar Qabbani
Translated by A.Z. Foreman

8.8.11

I'm No Teacher

I am no teacher
To teach you how to love,
For the fish need no teacher
To teach them to swim
And birds need no teacher
To teach them flight.
Swim on your own.
Fly on your own.
Love comes with no textbooks
And the greatest lovers in history were illiterate.

---Nizar Qabbani
Translated by A.Z. Foreman

5.8.11

Mohabbat bade kaam ki cheez hai

हर तरफ हुस्न है, जवानी है, आज की रात क्या सुहानी है
रेशमी जिस्म तरथराते है, मरमरी ख्वाब गुनगुनाते है

धड़कानों में सुरूर फैला है, रंग नज़दीक-ओ-डोर फैला है
दावता-ये-इश्क दे रही हैं फज़ा
आज हो जा किसी हसीन पे फिदा
के मोहब्बत बड़े काम की चीज़ हैं काम की

मोहब्बत के दम से हैं दुनियाँ की रौनक
मोहब्बत ना होती तो कुच्छ भी ना होता
नज़र और दिल की पनाहों की खातिर
ये जन्नत ना होती तो कुच्छ भी ना होता
यही एक आराम की चीज़ है

किताबों में छपते हैं चाहत के किससे
हक़ीकत की दुनियाँ में चाहत नहीं है
जमाने के बाजार में ये वो शे है
के जिस की किसी को ज़रूरत नहीं है
ये बेकार, बेदाम की चीज़ है
ये कुदरत के आराम की चीज़ है
ये बस नाम ही नाम की चीज़ है

मोहब्बत से इतना खफा होनेवाले
चल आ आज तुझे को मोहब्बत सीखा दे
तेरा दिल जो बरसों से वीरान पड़ा हैं
किसी नाज़नीनान को इस में बसा दे
मेरा मशवरा काम की चीज़ है.

---Lyricist :Saahir Ludhiyanvi
Singer :Lata Mangeshkar - Kishor Kumar - Yeshudaas
Music Director :Khayyam
Movie :Trishul - 1978

Refinement by Reading your Body

The day the conversation ended
Between your breasts awash in water
And the tribes that battled over water,
That day ended our Golden Age
And began the Age of Decay.
The rainclouds went on strike and said no rain
For the next five hundred years
The spring birds went on strike and stopped all flying
And the ears of grain abstained from procreation
And the fertile crescent moon took on the shape
Of a bottle full of crude oil.

The day they exiled me from the tribe
For leaving a poem and a rose
At the doorflap of your tent,
That day ended our Golden Age
And began the Age of Decay
An age that knew its grammar and syntax
But not a thing of womanhood,
The generations of degeneration
And the erasure of all women's names
From the memory of the nation.

Oh darling
What kind of nation is this,
Policing love like a dirty cop,
Considering the rose
A conspiracy against the regime,
Considering the poem
A manifesto of the underground?
What kind of nation is this
In the form of a yellow locust
Crawling out on its gut from the ocean to the Gulf
From the Gulf to the ocean,
Talking like a holy man all day
And woozy over a woman's navel all night?

What kind of nation is this?
Deleting love's material from curricula.
Deleting poetry,
And women's eyes.
What kind of nation is this?
Going to war with every raincloud,
Opening a classified file for every breast
And filing a police report for every rose.

Oh darling
What are we to do in this nation?
This nation that dare not see its body in the mirror
For fear of craving it?
That dare not hear a woman's voice on the phone
For fear of being too impure to pray?
What are we to do in this nation
That knows all there is to know
Of the October revolution,
Of the Zanj slaves who rose against their Caliph master
Of the Karmathians who stood against the Caliph's armies
And still keeps talking down to women like some Sheikh?
What are we to do in this nation
Between the works of Imam Ash-Shafi'i... and the works of Lenin
Between Qur'anic exegeses.... and Playboy magazines
Between Mu'tazilism... and the music of The Beatles?

O darling dumbfounder, you
Who amaze me like a child's toy,
I feel civilized
For loving you.
I call my poems historical
Because they have been your contemporaries.
All time before your eyes had yet to be,
All time after them went to pieces.
Do not ask me why I'm with you.
I just want an escape from being backwater,
To re-enter the time of water,
I want to defect from the Republic of Thirst,
To leave my backward desert life,
To sit beneath the trees
And bathe in springwater
And learn the names of the flowers.

I want you to teach me to read and write
For writing on your body is the ABC
Of entry into civilization.
Your body is not counterculture.
No, it is culture incarnate.
Whoever does not read the notebooks of your body
Will spend his life illiterate.

--- Nizar Qabbani
Translated by A.Z. Foreman

4.8.11

Why

Why do you ask me to write to you?
Why do you ask me
To go naked before you
Like a paleolithic?
Writing is the one thing that leaves me naked.
When I speak
I keep somewhat clad.
When I write
I roam light,
Free as a legendary bird.
When I write
I divorce myself from history
And from earth's gravity
To orbit in the outer space of your eyes.

--- Nizar Qabbani
Translated by A.Z. Foreman

Popular Posts

Total Pageviews